नई दिल्ली (पीटीआई)। आयकर विभाग ने 1.16 लाख लोगों और कंपनियों को नोटिस भेजा है। ये वे कंपनियां और इंडिविजुअल्स हैं जिन्होंने देश में नोटबंदी के दौरान 25 लाख रुपये से ऊपर की नकद राशि बैंक खातों में जमा कराई थी। लेकिन आयकर रिटर्न फाइल करने से चूक गए। यह जानकारी सीबीडीटी के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने दी है। उन्होंने यह भी बताया कि जिन लोगों ने भारी मात्रा में नकदी जमा की है और आईटी रिटर्न भी फाइल की है वे भी जांच दायरे में है।

आयकर विभाग ने 18 लाख ऐसे लोगों का पता लगाया है जिन्होंने देश में नोटबंदी के बाद खाते में 2.5 लाख रुपये पुराने 500 और 1000 रुपये के नोट के रूप में जमा किये थे। इनमें से जिन इंडिविजुअल्स और कंपनियों ने अपने आयकर रिटर्न फाइल नहीं किये हैं उन्हें दो श्रेणियों में बांट दिया गया है। एक जिन्होंने बैंक खाते में 25 लाख रुपये से ऊपर जमा किये है और दूसरे वो जिन्होंने खाते में 10 से 25 लाख रुपये जमा किये हैं।

चंद्रा ने यह भी बताया, “1.6 लाख लोगों ने 25 लाख रुपये से ऊपर की नकद राशि नोटबंदी के बाद बैंक खाते में जमा की है, लेकिन आयकर रिटर्न फाइल नहीं की है। इसलिए हमने उनसे 30 दिनों के भीतर अपना आयकर रिटर्न फाइल करने को कहा है। करीब 2.4 लाख लोगों ने 10 से 25 लाख रुपये कैश में जमा किये हैं और रिटर्न फाइल नहीं की है। इन लोगों को दूसरे चरण में नोटिस भेजा जाएगा।”