गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के समर्थन से चुनाव लड़ रहे छोटू भाई वसावा ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से अपनी जान को खतरा बताया है. नीतीश कुमार की अगुवाई वाली जनता दल यूनाइटेड से अलग हुए गुजरात के एकमात्र आदिवासी नेता छोटू भाई वसावा का आरोप है कि अमित शाह अपने चुने हुए पुलिस अधिकारियों के जरिए उनका एनकाउंटर करवाना चाहते हैं. बता दें कि नीतीश कुमार की जेडीयू से अलग होने के बाद छोटू भाई वसावा अब शरद गुट के साथ हैं.

छोटू वसावा ने इस संदर्भ में फेसबुक पर वीडियो भी शेयर किया है, जिसमें खुले तौर पर अमित शाह का नाम लेते हुए उन्हें सुना जा सकता है. उनका आरोप है कि गुजरात की विजय रूपाणी सरकार और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह उनकी हत्या करवाना चाहते हैं.

वसावा का कहना है कि गुजरात सरकार ने लोगों पर न जाने कितने अत्याचार किए और आंदोलनकारियों को मरवा दिया. न जाने कितने लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी. उन्होंने कहा, ‘मेरे खिलाफ अमित शाह ने घर पर छापे पड़वाए हैं और मुझे शक है कि वे मेरी हत्या करवा सकते हैं.’

आदिवासी नेता का कहना है कि मैंने राज्यसभा चुनाव में अपना वोट कांग्रेस के अहमद पटेल को देकर उन्हें जीता दिया था, इसलिए वो अब बदला लेने के लिए मेरी हत्या कराना चाहते हैं. वसावा ने अपने वीडियो को फेसबुक पर अपलोड किया है और चुनाव आयोग की मदद मांगी है.

नीतीश कुमार की जेडीयू के साथ हुए झगड़े के बाद छोटू वसावा ने भारतीय ट्राइबल पार्टी शुरू किया है, जिसे गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने समर्थन दिया है. कांग्रेस ने जिन तीन सीटों पर छोटू वसावा और उसके दो साथी चुनाव लड़ रहे हैं, उस पर अपने उम्मीदवार नहीं उतारे हैं.