नई दिल्ली. गुजरात में 9 दिसंबर और 14 दिसंबर को दो चरणों में विधानसभा चुनाव होने हैं. राज्य में सत्ताधारी पार्टी बीजेपी और कांग्रेस में कांटे की टक्कर चल रही है. ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्योंकि चुनाव से ठीक पांच दिन पहले एक हिन्दी न्यूज चैनल के सर्वे में यह बात निकल कर सामने आ रही है कि 22 साल से गुजरात में राज कर रही बीजेपी को कांग्रेस पटेलों की मदद से कड़ी टक्कर दे रही है.

ओपिनियम पोल के मुताबिक विधानसभा चुनाव में बीजेपी एक बार फिर सत्ता में लौट सकती है और उसे 95 सीटें मिल सकती है जबकि कांग्रेस 82 सीटों पर कब्जा जमा सकती है. ऐसे में अगर सीटों का ये अंतर और घटा तो ओपिनियम पोल के मुताबिक कांग्रेस भी गुजरात में वापसी कर सकती है.

कांग्रेसबीजेपी को मिलेंगे बराबर वोट: सर्वे

बात अगर दोनों पार्टियों के वोट शेयर की करें तो ओपनियम पोल के मुताबिक बीजेपी और कांग्रेस दोनों को 43-43 फीसदी वोट मिल सकते हैं जबकि 14 फीसदी वोट अन्य के खाते में जा सकता है.

सौराष्ट्र कच्छ के शहरी इलाके में बीजेपी तो ग्रामीण इलाके में कांग्रेस लोगों की पहलीपसंद

बात अगर गुजरात के सौराष्ट्र-कच्छ के शहरी क्षेत्रों की करें तो ओपनियन पोल के मुताबिक यहां बीजेपी कांग्रेस को काफी पीछे छोड़ रही है. बीजेपी को यहां 46 फीसदी वोट मिलने की संभावना दिख रही है जबकि कांग्रेस को 16 फीसदी कम सिर्फ 30 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है.गुजरात के सौराष्ट्र कच्छ क्षेत्र में विधानसभा की 54 सीटें हैं. ऐसे में ओपिनियन पोल के मुताबिक ग्रामीण इलाकों में कांग्रेस ने बीजेपी पर बढ़त बना ली है. ग्रामीण इलाकों में बीजेपी को जहां सिर्फ 43 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है वहीं कांग्रेस को 49 फीसदी वोट मिलने की संभावना है. वहीं बात अगर शहरी इलाकों की करे तो यहां बीजेपी कांग्रेस से आगे निकलती दिख रही है. सर्वे के मुताबिक सौराष्ट्र-कच्छ के शहरी इलाकों में बीजेपी को 45 तो कांग्रेस को 39 फीसदी वोट शेयर मिलता दिख रहा है.

उत्तर गुजरात में कांग्रेस को बीजेपी से ज्यादा मिलेंगे वोट: सर्वे

अगर उत्तर गुजरात की बात करें तो ओपिनियन पोल के मुताबिक बीजेपी को यहां करारा झटका लगा है. इस इलाके में कांग्रेस ने बीजेपी पर 4 फीसदी वोटों की बढ़त बनाकर रखी है. उत्तर गुजरात में कांग्रेस को 49 फीसदी वोट मिलने की संभावना है जबकि बीजेपी को यहां सिर्फ 45 फीसदी वोट ही मिल सकते हैं.

दक्षिण गुजरात में शहरी इलाके में कांग्रेस तो ग्रामीण इलाके में बीजेपी आगे

अब अगर दक्षिण गुजरात को देखें तो यहां विधानसभा की कुल 35 सीटें है. यहां के ग्रामीण इलाकों में बीजेपी कांग्रेस से आगे दिख रही है. ओपनियन पोल के आंकड़ों के मुताबिक कांग्रेस को जहां 42 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है वहीं बीजेपी को 44 फीसदी वोट मिलने की संभावना जताई गई है.

दक्षिण गुजरात के शहरी इलाकों में बीजेपी कांग्रेस से पिछड़ती नजर आ रही है. कांग्रेस को जहां 43 फीसदी वोट मिलने की संभावना जताई गई है वहीं बीजेपी को सिर्फ 36 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है.

मध्य गुजरात में बीजेपीकांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर

हालांकि बात अगर मध्य गुजरात की करें तो यहां विधानसभा की 40 सीटें हैं. मध्य गुजरात में बीजेपी और कांग्रेस के बीच मात्र 1 फीसदी वोट का अंतर दिख रहा है. बीजेपी को जहां 41 फीसदी वोट मिल सकता है वहीं कांग्रेस को 40 फीसदी वोट मिलने की संभावना है. हालांकि मध्य गुजरात के ग्रामीण इलाके में कांग्रेस आगे हैं और उसे 47 फीसदी वोट मिल सकते हैं जबकि बीजेपी को सिर्फ 43 फीसदी वोट मिलने की ही संभावना जताई गई है. गुजरात के अगर इन चार क्षेत्रों के वोट शेयर को मिला दें तो पता दोनों ही पार्टियों को बराबर वोट शेयर 43-43 फीसदी मिलता दिख रहा है. ऐसे में 9 और 14 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में बीजेपी-कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर तय है.

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की लोकप्रियता में आई कमी

खासबात यह है कि ओपनियन पोल के मुताबिक राज्य में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की लोकप्रियता में भी कमी आई है. अगस्त में हार्दिक की लोकप्रियता 61% थी जबकि अक्टूबर में 64% और नवंबर में यह घटकर 58% रह गई है. यह ओपिनियन पोल एबीपी न्यूज के लिए सर्वे एजेंसी लोकनीति और सीएसडीएस ने 23 से 30 नवंबर के बीच 50 विधानसभा क्षेत्रों के 200 बूथों पर जाकर 3655 लोगों की राय लेकर की है.