सिओल, एजेंसी। अमेरिका और दक्षिण कोरिया के सोमवार से शुरू हो रहे वायुसैनिक अभ्यास पर भड़कते हुए उत्तर कोरिया ने इसे युद्ध भड़काने वाली कार्रवाई करार दिया है। कहा है कि दोनों देश नहीं माने तो यह परमाणु युद्ध की शुरुआत हो सकती है।

अमेरिका और दक्षिण कोरिया का यह सबसे बड़ा वायुसैनिक अभ्यास होगा, जिसमें 230 अत्याधुनिक लड़ाकू विमान हिस्सा लेंगे। इनमें अमेरिका का अत्याधुनिक एफ-22 रैप्टर स्टील्थ विमान भी शामिल होगा। उत्तर कोरिया की यह प्रतिक्रिया अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एचआर मैकमास्टर के उस बयान के बाद आई है, जिसमें कहा गया था कि साधनहीन, लेकिन परमाणु हथियार संपन्न उत्तर कोरिया से युद्ध का खतरा बढ़ रहा है।

उन्होंने कहा कि यह खतरा दिनोदिन बढ़ता जा रहा है। हम इस समस्या के खात्मे की दिशा में बढ़ते जा रहे हैं। समस्या खत्म करने का एक तरीका युद्ध का भी है, जिसकी आशंका दिनोदिन बढ़ती जा रही है। चार दिसंबर से शुरू होकर आठ दिसंबर तक चलने वाला यह वायुसैनिक अभ्यास उत्तर कोरिया के लंबी दूरी के बैलेस्टिक मिसाइल परीक्षण से छह दिन बाद शुरूहो रहा है। इस बैलेस्टिक मिसाइल से अमेरिकी शहरों पर परमाणु हमला करने की उत्तर कोरिया ने धमकी दी है।

उत्तर कोरिया की सत्तारू़ढ़ वर्कर्स पार्टी के अखबार रोडोंग सिनमुन ने इस अभ्यास की निंदा की है। कहा है कि यह उत्तर कोरिया को भड़काने की कार्रवाई है। इसके चलते किसी भी क्षण परमाणु युद्ध भड़क सकता है। अखबार में कहा गया है कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया के नेताओं को समझ लेना चाहिए कि युद्ध भड़कने की स्थिति में उत्तर कोरिया केवल सैन्य ठिकाने पर ही निशाना नहीं लगाएगा, बल्कि उसके निशाने पर और भी बहुत सी चीजें होंगी।

उल्लेखनीय है कि शनिवार को उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय ने कहा था कि अमेरिका परमाणु युद्ध पर आमादा है। इसके लिए सहयोगी देशों से भीख मांग रहा है। किम जोंग ने टायर फैक्टरी का दौरा कर कर्मियों को दी बधाई नोट: दो कॉलम फोटो है। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के अस्वस्थ होने की चर्चा भले ही मीडिया की सुर्खी बनती हो लेकिन वह जब-तब खुद को सक्रिय दिखाकर दुनिया को चौंकाते रहे हैं।

ताजा मामले में किम जोंग उस कारखाने में पहुंचे जहां बड़ी अंतर महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल ले जाने वाले वाहनों के टायर बनते हैं। किम जोंग ने कारखाने के कर्मचारियों को लगन और मेहनत से काम करने के लिए बधाई दी। किम जोंग ने कहा, देश के इतने सक्षम होने में उनका भी बड़ा योगदान है। उन्‍होंने कहा, ‘नौ एक्सल वाले ट्रक के लिए बड़े आकार के टायर स्वदेशी तकनीक से बनाना छोटी बात नहीं है। इससे रक्षा के क्षेत्र में देश की काबिलियत बढ़ी है और अर्थव्यवस्था विकसित होने की संभावना भी बढ़ी है।’

किम जोंग ने अम्नोकगांग टायर फैक्टरी को बड़े टायर बनाने की जिम्मेदारी सितंबर में सौंपी थी। फैक्टरी ने यह जिम्मेदारी नवंबर में पूरी करके दिखा दी। बीते मंगलवार को उत्तर कोरिया ने ह्वासोंग-15 मिसाइल का परीक्षण किया है जो 13,000 किलोमीटर का सफर तय करके अमेरिकी शहरों तक पहुंच सकती है। इससे पहले शुक्रवार को ह्वासोंग-15 बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण सफल होने पर लोगों ने सार्वजनिक रूप से नाच-गाकर और आतिशबाजी करके खुशी का इजहार किया था। इस मौके पर बड़ी जनसभा करके देश के नेता किम जोंग उन और वैज्ञानिकों का आभार जताया गया था।