नई दिल्ली: मोबाइल भुगतान प्लेटफार्म पेटीएम ने अपने प्लेटफार्म पर भीम यूपीआई का इस्तेमाल करके भुगतान की सुविधा शुरू कर दी है. यूजर्स इस एप पर अपनी खुद की ”भीम यूपीआई आईडी’ का क्रिएट कर सकते हैं, जो पेटीएम पेमेंट्स बैंक द्वारा जारी की जाएगी. पेटीएम के यूजर्स अपने किसी भी बचत बैंक खाते को इस पेटीएम भीम यूपीआई आईडी से लिंक कर सकते हैं और पैसे भेजना और रिसीव करना शुरू कर सकते हैं. पेटीएम भीम यूपीआई आईडी सभी बैंकों व भीम यूपीआई एप्स में स्वीकार की जा रही है.

 

कंपनी ने एक बयान में मंगलवार को यह जानकारी दी. इसमें बताया गया कि यूपीआईडी बनाने के लिए यूजर्स पेटीएम एप की होम स्क्रीन में भीम यूपीआई सेक्शन में जा सकते हैं. ये आईडी यूजर्स का रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर होगा. यूजर्स अपने मौजूदा बचत बैंक खाते से अपने पेटीएम भीम यूपीआई आईडी को लिंक कर सकते हैं. इस फीचर का प्रीव्यू वर्तमान में पेटीएम एंड्रॉयड एप पर उपलब्ध है और जल्द ही यह आईओएस पर भी उपलब्ध कराया जाएगा.

 
कैसे करता है काम?
पेटीएम भीम यूपीआई के साथ, यूजर्स दो बैंक खातों के बीच कितनी ही बार और तुरंत पैसों का लेन-देन कर सकते हैं, जिसके लिए बेनेफिशरी को जोड़ने के लिए इंतजार करने की जरूरत भी नहीं है. पैसे पाने के लिए उन्हें किसी के भी साथ अपने बैंक खाते की जानकारियां व आईएफएससी कोड को साझा करने की जरूरत नहीं है. इससे पेटीएम के ज्यादा से ज्यादा ग्राहक ज्यादा विकल्पों, ज्यादा आसानी और सहूलियत के साथ डिजिटल लेन-देन करने में सक्षम होंगे.

 

कंपनी ने बताया कि पेटीएम अपने 50 लाख व्यापारिक साझेदारों को भी अपनी पेटीएम भीम यूपीआई आईडी बनाने और उनका इस्तेमाल करके पैसे स्वीकार करने के लिए प्रशिक्षण देगा. व्यापारियों को एक ही पेटीएम भीम यूपीआई आईडी से कई बैंक खाते जोड़ने और सीधे अपने बैंक खातों में पैसे स्वीकार करने की सहूलियत भी देगा. नेशनल पेमेंट्स कार्पोरशन ऑफ इंडिया (एनसीपीआई) के दिशानिर्देशों के अनुसार, यूजर्स भीम यूपीआई का इस्तेमाल करके हर रोज एक लाख रुपये तक भेज सकते हैं, जबकि पैसे पाने की कोई सीमा नहीं है.

 

पेटीएम पेमेंट्स बैंक की प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी रेणू सत्ती ने कहा, “अपने बड़े यूजर्स आधार व व्यापारिक नेटवर्क को भीम यूपीआई उपलब्ध कराकर, हम मानते हैं कि डिजिटल भुगतान की नई लहर जल्द ही शुरू होगी. इससे ग्राहकों को न केवल पेटीएम प्लेटफार्म पर लेन-देन करने में सहूलियत होगी, बल्कि पेटीएम के व्यापारियों के लिए व्यापार के मौके भी बढ़ेंगे क्योंकि वे ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों से भुगतान स्वीकार करने में सक्षम होंगे.”