नई दिल्ली: टीवी पर हमेशा ग्लैमरस लुक में नजर आने वाले सेलेब्स की जिंदगी असल में ठीक वैसी नहीं होती. कभी-कभी पर्दे के पीछे की कहानी इतनी भयानक होती है, जिसपर विश्वास करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है. हाल ही में कुछ ऐसा ही टीवी शो ‘ऐसी दीवानगी… देखी नहीं कही’ के सेट पर हुआ. बॉम्बे टाइम्स की रिपोर्टके मुताबिक, शो के लीड स्टार्स प्रणव मिश्रा और ज्योति शर्मा ने एक साथ ‘अमानवीय व्यवहार और कामकाजी परिस्थितियों’ को देखते हुए शो से अलविदा कह दिया है. एक्टर्स ने आरोप लगाया है कि उनसे कई घंटों तक बिना ‘खाना और पानी’ दिए लगातार काम कराया जाता था. बीमारी की हालात में भी प्रोड्यूसर्स उन्हें काम करने पर मजबूर करते थे.

बॉम्बे टाइम्स को दिए इंटरव्यू में एक्ट्रेस ज्योति ने बताया, “जनवरी, 2017 में शो शुरू हुआ था. तब से ही हमारा शोषण किया जा रहा है. हम हर दिन 18 घंटे काम करते थे. विस्तारित घंटों के दौरान हमें न तो खाना-पानी दिया जाता था न चाय. माहौल इतना बिगड़ चुका था कि अब हम यह शो जारी नहीं कर पाएंगे.”

प्रणव के मुताबिक, “हमारे साथ जानवरों से भी बदतर व्यवहार किया जाता था, जो बेहद दर्दनाक है. दिशानिर्देशों के अनुसार, दो शिफ्टों के बीच 12 घंटे का ब्रेक होना जरूरी है. जबकि में दावे के साथ कह सकता हूं कि पिछले 250 दिनों में हमने 5 घंटे के अंतर सेट पर वापसी की है. मैंने और ज्योति ने CINTAA (सिने और टीवी आर्टिस्ट्स एसोसिएशन) के आदेशों के अनुसार तनाव परीक्षण कराया है. इसकी रिपोर्ट के मुताबिक, हम तनाव, चिंता और निराशा से पीड़ित हैं.”

ज्योति ने यह भी आरोप लगाए हैं कि निर्माता बिना पर्याप्त सुरक्षा के उनसे स्टंट कराया करते हैं, जिसकी वजह से उनके साथ एक हादसा भी हुआ. बकौल ज्योति, “एक सीन के दौरान मुझे नीचे गिरना था, इसलिए निर्देशक ने गद्दे डलवाने की मांग की. हालांकि, यूनिट गद्दा लाने में असमर्थ रही. इसके चलते मुझे एक पथरीली जगह पर गिरना पड़ा और मेरी पीठ पर चोट लग गई.”

इतना ही नहीं एक्ट्रेस ने एक और भयानक अनुभव इंटरव्यू में शेयर किया. एक सीक्वेंस के दौरान सेट पर आग लगाने वाली थी. लेकिन ज्योति कमरे में किसी तरह फंस गईं. आग और धुंआ फैलनी की वजह से उनका हाल बेहाल हो गया. इसके कारण उन्होंने अपनी ‘आवाज खो दी’ थी और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. ज्योति बताती हैं, “इस घटना के बाद डॉक्टर ने मुझे 4 दिन आराम करने की सलाह दी थी. लेकिन मुझे अगले ही दिन सेट पर बुलाया गया था और शूटिंग के दौरान मुझे बहुत चीखना-चिल्लाना पड़ा था.”

CINTAA के महासचिव सुशांत सिंह मामले में ज्योति और प्रणव का पक्ष सुन चुके हैं. उनका कहना है कि अब वह प्रोड्यूसर्स की बात सुनकर आवश्यक कदम उठाएंगे. बॉम्बे टाइम्स को दिए इंटरव्यू में सुशांत सिंह ने कहा, “हमें प्रोडक्शन हाउस के साथ उनका कॉन्ट्रेक्ट देखा, और ये बंधुआ मजदूरों से कम नहीं है. मेडिकल रिपोर्ट्स से साफ है कि दोनों तनाव और अवसाद से गुजर रहे हैं और उन्हें दवा दी गई है. यह सेट पर अमानवीय व्यवहार होने का स्पष्ट उदाहरण है. हमारी केयर कमेटी की सदस्य नूपुर अलंकार ने सेट का दौरा किया है और प्रोड्यूसर्स से बातचीत की. सभी संबंधित दलों के साथ बैठक बुलाई जाएगी और स्टार्स के दर्द को कम करने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे.”

बॉम्बे टाइम्स के साथ बातचीत में शो के तीन प्रोड्यूसर्स में से एक ने कहा कि ज्योति और प्रणव को बीच में ऐसे शो नहीं छोड़ना था. उनके मुताबिक, “यह एक तकनीकी समस्या है और कुछ नहीं. मुझे अब तक CINTAA की ओर से संपर्क नहीं किया गया है.”