बीती रात मुंबई के एक पब में भीषण आग लगने से 14 लोगों की मौत हो गई, जबकि 15 लोग घायल हो गए. आग देर रात करीब 12 बजे लगी, फायर ब्रिगेड की दर्जन भर गाड़ियों की मदद से आग पर काबू पा लिया गया है. मरने वालों में 12 महिलाएं जबकि 3 पुरुष थे, आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है, लेकिन शुरुआती जानकारी के मुताबिक शॉर्ट शर्किट के कारण आग लगी है. मामले में पुलिस ने रेस्तरां के खिलाफ गैर इरादतन हत्या (IPC की धारा 304) के तहत एफआईआर दर्ज की है.

आग लगने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. मुंबई फायर सर्विस के प्रमुख ने कहा है कि पब में आग बुझाने वाला कोई भी यंत्र काम नहीं कर रहा था. इसके अलावा बीजेपी सांसद किरीट सौमेया ने कहा कि पब अवैध तरीके से बना हुआ था, इस हादसे के लिए बीएमसी जिम्मेदार है.

मुंबई के लोअर परेल इलाके में लोगों की मौत दम घुटने की वजह से बताई जा रही है. घायलों को इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मोजोस लॉउंज में बीती रात करीब साढ़े 12 बजे भीषण आग लग गई. आग इतनी तेजी से फैली की लोगों को भागने का भी मौका नहीं मिला. करीब कई लोग अंदर फंसे हुए थे. इन्हें घटना के तुरंत बाद पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम ने रेस्कयू कर केईएम अस्पताल ले गई, जिनमें 14 लोगों की मौत हो गई. जबकि 15 लोगों का इलाज चल रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी मुंबई आग हादसे पर दुख जताया है.

घायलों में कई की हालत चिंताजनक बताई जा रही है. चश्मदीद के मुताबिक आग लगने से पहले धमाका भी हुआ था, जिसके बाद चीख पुकार मच गई. धीरे-धीरे आग बाहर तक फैल गई और लोगों को बाहर निकलने के मौका भी नहीं मिला. इस इलाके में कई कॉरपोरेट के ऑफिस हैं, जो 24 घंटे खुले रहते हैं. खबर मिलने तक आग पर काबू करने की कोश‍िश जारी थी.

हादसे के बाद देर रात बीएमसी कमिश्नर अजय मेहता भी घटनास्थल पर पहुंचे और हालात का जायज़ा लिया. मीडिया के सवालों से वो बचते नज़र आये, क्योंकि बताया जा रहा है कि जिस पब में आग लगी वो अवैध तरीके से बनाया गया है. उन्होंने कहा कि मामले जांच की जाएगी.

फायर ब्रिगेड का कूलिंग और सर्च आपरेशन चलता रहा. पुलिस ने इस मामले में ADR के तहत मामला दर्ज कर जांच कर रही है, हालांकि ये मामला किसके खिलाफ दर्ज हुआ है, पुलिस ने इसे जांच का विषय होने का कारण साफ नहीं किया है. बता दें कि 18 दिसंबर को भी मुंबई के साकीनाका इलाके में भी आग से जलकर 12 लोगों की मौत हो गई थी.