नई दिल्ली। देश में 4G इंटरनेट को लाख बढ़ावा देने के बाद भी भारत मोबाइल इंटरनेट स्पीड के मामले में दुनिया के टॉप 100 देशों में अपनी जगह नहीं बना पाया है। ओकला द्वारा जारी किए गए नवम्बर स्पीडटेस्ट ग्लोबल इंडेक्स के अनुसार मोबाइल इंटरनेट स्पीड के मामले में भारत की रैंकिंग 109 वें स्थान पर है। इस श्रेणी में नॉर्वे टॉप पोजीशन पर है। इसी क्षेत्र में ब्रॉडबैंड स्पीड की बात की जाए तो इस मामले में भारत की ग्लोबल रैंकिंग 76 वीं है।

1 साल में 15 फीसद हुआ स्पीड में इजाफा
रिपोर्ट के अनुसार- भारत में 2017 की शुरुआत में मोबाइल डाउनलोड स्पीड 7.65 एमबीपीएस थी। नवम्बर में यह स्पीड बढ़ कर 8.80 एमबीएपस हो गई। भारत में इस तरह से मोबाइल डाउनलोड स्पीड में 15 फीसद का इजाफा देखा गया।

फिक्स्ड ब्रॉडबैंड स्पीड में आया 50 फीसद उछाल 
रिपोर्ट के अनुसार जहां औसत मोबाइल डाउनलोड स्पीड काफी धीमी रफ्तार से बढ़ी। वहीं, फिक्स्ड ब्रॉडबैंड स्पीड में एक साल में 50 फीसद का इजाफा हुआ। जनवरी की शुरुआत में एवरेज फिक्ड्फिक ब्राडबैंड डाउनलोड स्पी ड 12.12 एमबीपीएस थी, जो नवंबर में बढ़कर 18.82 एमबीपीएस हो गई।

तेजी से बढ़ रही है भारत में इंटरनेट स्पीड 

ओकला के को-फाउंडर और जनरल मैनेजर डौग सुटल्सइ के अनुसार -”भारत में मोबाइल और फिक्ड््रॉ ब्राडबैंड इंटरनेट स्पीउड फास्टन हो रही है। यह भारतीय कंज्यू मर्स के लिए अच्छीब खबर है। हालांकि, अभी भी भारत को टॉप स्पी्ड के मामले में दुनिया के शीर्ष देशों की बराबरी करने में लंबा सफर तय करना होगा। बावजूद इसके ओकला भारतीय मार्केट में ग्रोथ की क्षमता को लेकर आशान्वित है। आने वाले समय में मार्केट के तेजी से बढ़ने की उम्मी द है।”

नॉर्वे मोबाइल इंटरनेट स्पीड में भारत से 7 गुना तेज 
ओकला रिपोर्ट के अनुसार- मोबाइल इंटरनेट स्पीड में नॉर्वे ने टॉप किया है। नॉर्वे की औसत मोबाइल डाउनलोड स्पी ड 62.66 एमबीपीएस है। फिक्ड्ं ब्राडबैंड स्पी ड के मामले में सिंगापुर टॉप पर है। सिंगापुर में एवरेज फिक्ड्ीड ब्राडबैंड डाउनलोड स्पीनड 153.85 एमबीपीएस है।

कैसे तय की जाती है डाउनलोड परफॉरमेंस 
ओकला हर देश में इंटरनेट परफॉरमेंस की जांच करता है । यह जांच कंज्यूडमर के स्पी8ड टेस्टह के आधार पर होती है। यानी, स्पी ड पूरी तरह कंज्यू मर के अनुभव के आधार पर तय होती है। स्पीेडटेस्ट के लिए अभी तक 17 अरब से ज्यारदा टेस्टं किए जा चुके हैं।