बॉलिवुड में अपना डेब्यू करने जा रहे आयुष शर्मा इससे इंकार नहीं करते कि सुपरस्टार सलमान खान का रिश्तेदार होने के कारण बॉलिवुड में उन्हें फिल्म मिली है लेकिन उनका कहना है कि उनका लक्ष्य खुद को बेहतर अभिनेता के तौर पर साबित करना है। बता दें कि आयुष ने 2014 में सलमान खान की बहन अर्पिता से शादी की थी। वह रोमांटिक फिल्म ‘लवरात्रि’ से बॉलिवुड में डेब्यू करने जा रहे हैं।

इस फिल्म का ट्रेलर सोमवार को रिलीज हो गया है। डेब्यू कर रहे आयुष को फिल्म के प्रड्यूसर सलमान खान का काफी सहयोग मिला। आयुष ने कहा, ‘मैं बहुत खुशकिस्मत हूं कि मुझे सही दिशा में ले जाने के लिए सलमान हैं।’ उन्होंने कहा, ‘वह मेरा मार्गदर्शन अच्छे से किया करते थे। उन्होंने मुझे बताया कि यह तुम्हारे ऑडीशंस की संख्या के बारे में नहीं है, बल्कि इस बारे में हैं कि ऑडीशन कब दिया है और कितना अच्छा दिया है। मैंने सलमान भाई के साथ चार साल ट्रेनिंग ली। वह मुझसे खास तरह से कहते थे कि, ‘देखो, मैं तुम्हारा डेब्यू करा सकता हूं, लेकिन डरता हूं कि जब तुम कैमरे के सामने जाओगे तो वहां सिर्फ तुम्हें ही काम करना है। उसमें मैं कुछ नहीं कर सकता।’

आयुष ने आगे कहा, ‘उन्होंने मुझे बताया कि याद रखो, एक कलाकार की प्रसिद्धि बहुत अच्छी होती है, लेकिन जब आपकी फिल्म अच्छा काम नहीं करती तो अच्छा नहीं होता क्योंकि आपको लेकर बहुत बातें होने लगेंगी कि फिल्म नहीं चली और इसका ऐक्टर अच्छा कलाकार नहीं है। उन्होंने मुझे मेरी पहली फिल्म में अपना 100 फीसदी देने के लिए बहुत प्रेरित किया।’

ट्रेनिंग पर बात करते हुए आयुष ने कहा कि सलमान सपॉर्टिव, सिंपल लेकिन सख्त ट्रेनर हैं। हिमाचल प्रदेश में मंडी के रहने वाले आयुष के मन में भी ज्यादातर लोगों की तरह पूर्वाग्रही विचार थे। उन्होंने कहा, ‘सबको लगता है कि सिर्फ अच्छा चेहरा, अच्छा शरीर, कैमरे के सामने खड़े होने और अपने संवाद याद रखने से ही अभिनेता बना जा सकता है। लेकिन मैं जब सेट पर आया तो मुझे इसके पीछे की कड़ी मेहनत का एहसास हुआ। मुझे समझ आ गया कि मैं इसके लिए तैयार नहीं था।’

गुजरात की पृष्ठभूमि पर आधारित ‘लवरात्रि’ में उनके अलावा वरीना हुसैन भी प्रमुख भूमिका में हैं। फिल्म के निर्देशक अभिराज मीनावाला पहली बार निर्देशन कर रहे हैं।