राज्य ब्यूरो। पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के प्रधान डा. फारूक अब्दुल्ला के घर जबरन घुसे घुसपैठिए को सुरक्षाबलों ने मार गिराया। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ लगते भठिंढी में यह घटना जब हुई, उस समय डा. फारूक अब्दुल्ला घर में नहीं थे। सुबह करीब दस बजे एक व्यक्ति एसयूवी गाड़ी में सवार होकर पूर्व मुख्यमंत्री के घर के भीतर जबरन घुस गया। घर की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों ने उसे रोकने का प्रयास किया लेकिन जब वह नहीं रूका तो उसे गोली चलाकर मार गिराया गया।

जम्‍मू-कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री फारूक अब्‍दुल्‍ला के आवास में जबरन घुसे एक व्‍यक्ति को सुरक्षा बलों ने मार गिराया है। बताया जा रहा है कि यह व्‍यक्ति एसयूवी में सवार था और अब्‍दुल्‍ला के जम्‍मू स्थित आवास में जबरन घुस गया था। सुरक्षाबलों ने उसे रोकने की कोशिश की लेकिन वह नहीं रुका। इसके बाद अब्‍दुल्‍ला के आवास पर तैनात सुरक्षाकर्मियों ने गोली चला दी।

जम्मू के इंस्पेक्टर जनरल आफ पुलिस एसडी सिंह जम्वाल, डीआईजी सहित पुलिस के कई वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। इस मामले में अभी वह कुछ भी नहीं कह रहे हैं।

इस घटना के बाद जम्मू के एसएसपी विवेक गुप्ता ने बताया कि, कार में बैठा घुसपैठिया मेन गेट को पार करके अंदर घुस गया था। वहां ड्यूटी पर तैनात अफसर से उसकी भिडंत हुई। जिसमें ड्यूटी ऑफिसर घायल हो गया है। जैसे ही वो घर में घुसा तो सुरक्षाबलों ने उसे मार गिराया।

पुलिस व सीआरपीएफ कीे दो बख्तरबंद गाड़ियां भी फारूक अब्दुल्ला के निवास स्थान पर पहुंच गई है। पूरे घर और आसपास के क्षेत्र को सुरक्षाबलों ने घेरे में लेे लिया है।

सुरक्षाबल किसी भी प्रकार का रिस्क नहीं ले रहे हैं। गौरतलब है कि आतंकियों ने शनिवार की सुबह नेशनल कांफ्रेंस के विधायक के घर को भी निशाना बनाया है। उधर, फारूक अब्‍दुल्‍ला के बेटे उमर अब्‍दुल्‍ला ने ट्वीट कर बताया कि उनके घर में एक व्‍यक्ति ने घुसने की कोशिश की है। उन्‍होंने कहा कि घुसपैठिया सामने के दरवाजे से घर में प्रवेश कर गया था और लॉबी तक पहुंच गया। सुरक्षाकर्मियों ने घुसपैठिए को मार गिराया है और उसकी पहचान की जा रही है।

उधर, मारे गए युवक के परिजनों ने सुरक्षाबलों के खिलाफ हंगामा किया। युवक के पिता ने सुरक्षाबलों की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए हैं। घटना पर विरोध दर्ज कराते हुए युवक के पिता ने कहा, मेरा बेटा कल मेरे साथ था। वह रोज जिम जाता है। आज भी वह जिम के लिए निकला था। जब उसने गेट तोड़ने की कोशिश की तो सुरक्षाकर्मी कहां थे? उन्होंने उसे गिरफ्तार क्यों नहीं किया। मैं जानना चाहता हूं कि उसे (बेटे) क्यों मारा गया?

उधर, इस घटना के बाद पूरे इलाके को सुरक्षाकर्मियों ने घेर लिया है और फारुक के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पुलिस और सीआरपीएफ ने घटनास्‍थल के आसपास तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। सूत्रों ने बताया कि मारे गए व्‍यक्ति की पहचान अभी नहीं हो पाई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। इसके अलावा आसपास के लोगों से भी पूछताछ की जा रही है।

बता दें, आतंकवादी खतरे को देखते हुए फारूक अब्‍दुल्‍ला को जेड प्‍लस प्‍लस की सुरक्षा मिली हुई है। एसएसपी जम्‍मू विवेक गुप्‍ता ने इस घटना के संबंध में बताया कि घुसपैठिया मुख्‍य दरवाजे से घर के अंदर घुस गया था। उसकी वहां तैनात ड्यूटी ऑफिसर से झड़प भी हुई। इस घटना में ड्यूटी ऑफिसर भी घायल हुआ है। उसके आवास में घुसने के बाद घर को भी कुछ नुकसान पहुंचा। इसके बाद उसे मार गिराया गया।’

नेकां के पूर्व विधायक के घर पर हमला 

जानकारी हो कि अनंंतनाग में कल शुक्रवार को नेशनल कांफ्रेंस के नेता और पूर्व विधायक अब्दुल मजीद के घर पर तैनात सुरक्षाकर्मियों ने एक आतंकी हमले को नाकाम बना दिया। पुलिस के मुताबिक, आतंकियों का मकसद सुरक्षाकर्मियों के हथियार लूटना था। फिलहाल, आतंकियों को पकड़ने के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी करते हुए तलाशी अभियान चलाया गया है।

यहां मिली जानकारी के अनुसार, रात करीब दस बजे स्वचालित हथियारों से लैस आतंकियों ने शांगस के पूर्व विधायक और नेकां नेता अब्दुल मजीद मीर के अच्छाबल स्थित मकान प हमला किया। आतंकियों ने नेकां नेता के घर में स्थित सुरक्षागार्द को निशाना बनाते हुए भीतर दाखिल होने का प्रयास किया। उनका मकसद सुरक्षा गार्द से हथियार लूटना था। लेकिन वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने तुरंत मोर्चा संभाला और जवाबी कार्रवाई की। करीब पांच मिनट तक दोनों तरफ से गोलियां चली। इसके बाद आतंकी अंधेरे का लाभ लेते हुए वहां से भाग निकले।

नेकां नेता के मकान पर आतंकी हमले की सूचना मिलते ही पुलिस और सीआरपीएफ के अधिकारी भी अपने दल बल समेत मौके पर पहुंच गए। उन्होंने नेकां नेता के घर की सुरक्षा को बढ़ाते हुए आतंकियों को पकड़ने के लिए साथ सटे इलाकों की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया जो अब तक जारी हैं।