भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट मैच आज से केपटाउन में खेला जाना है। केपटाउन टेस्ट से एक दिन पहले कप्तान विराट कोहली ने कुछ ऐसा किया कि दक्षिण अफ्रीकी मीडिया उनसे कुछ खफा सी हो गई है। मैच से एक दिन पहले ऑप्शनल प्रैक्टिस सेशन में कोई भी क्रिकेटर नहीं पहुंचा और इतना ही नहीं कप्तान विराट तो मैच से पहले होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी नजर नहीं आए।

विराट की जगह भारत के बैटिंग कोच संजय बांगड़ मीडिया से बात करने आए और वो भी एक घंटे की देरी के बाद। इससे पहले टीम मैनेजमेंट ने सुबह टेस्ट से पहले प्रैक्टिस सेशन को वैकल्पिक होने की घोषणा की। हालांकि ये हैरानी भरा था कि कोई भी खिलाड़ी छोटे से भी सेशन में हिस्सा लेने नहीं आया। यहां तक कि केपटाउन टेस्ट में जो नहीं खेलेंगे, वे खिलाड़ी भी प्रैक्टिस के लिए नहीं पहुंचे।

केवल सहयोगी स्टाफ, हेड कोच रवि शास्त्री और मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद मैच का विकेट देखने आए। टीम मैनेजमेंट में एक सूत्र ने कहा कि इसे ज्यादा तवज्जो नहीं देनी चाहिए क्योंकि व्यस्त सीरीज से पहले ये ऑप्शनल प्रैक्टिस सेशन था।

इस दौरान सबसे हैरानी की बात कोहली का मीडिया कॉन्फ्रेंस के लिए नहीं आना था। किसी भी सीरीज के शुरू होने से पहले दोनों कप्तानों का मीडिया सम्मेलन में आना और प्रेस से बात करना आम प्रक्रिया रही है। लेकिन ये बात गौर करने वाली है कि महेंद्र सिंह धौनी ने कभी भी प्रेस कॉन्फ्रेंस का सेशन नहीं छोड़ा, खासकर विदेशी दौरों के दौरान। यहां तक कि पिछले वेस्टइंडीज या हाल में श्रीलंका में, कोहली ने मैच के पूर्व होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस में शिरकत की थी।

केप टाउन में स्थानीय मीडिया इससे खुश नहीं थी। कोहली की अनुपस्थिति का कारण ये बताया गया कि उन्होंने पिछले हफ्ते दक्षिण अफ्रीका में पहुंचने के बाद शास्त्री के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। इसके अलावा भारतीय मीडिया मैनेजर ने ये भी पुष्टि की कि क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका ने कुछ नहीं कहा कि कप्तान को प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए उपलब्ध कराया जाना चाहिए।

एक घंटे से ज्यादा समय तक इंतजार करने के बाद टीवी चैनल के दो क्रू सदस्य बांगड़ की चल रही प्रेस कॉन्फ्रेंस को छोड़कर चले गए, इस तरह से उन्होंने अपनी नाराजगी जाहिर की।