नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस बुधवार से शुरू हो रहे संसद के मॉनसून सत्र के दौरान राज्यसभा के उप सभापति के चुनाव में अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी. सोमवार को संसद में 13 विपक्षी दलों के अहम नेताओं की बैठक के बाद तृणमुल कांग्रेस के सांसद सुखेंदू शेखर राय ने NDTV से कहा कि ममता बनर्जी चाहती हैं कि विपक्षी दलों में आम राय बनाकर उम्मीदवार चुना जाए और उनकी पार्टी उस उम्मीदवार का समर्थन करेगी जो विपक्ष की तरफ से आम सहमति से चुना जाएगा.

सुखेंदु शेखर रॉय ने कहा, ‘राज्य सभा में हमारे नेता डेरेक ओ ब्रायन ने कई बार कहा है कि राज्यसभा के उप सभापति के चुनाव के लिए तृणमूल कांग्रेस अपनी उम्मीदवार नहीं उतारेगी. हम उस उम्मीदवार का समर्थन करेंगे जो विपक्ष की तरफ से सर्व सहमति से चुना जाएगा.’

विपक्षी दलों की बैठक में टीडीपी की तरफ से रखे जाने वाले अविश्वास प्रस्ताव पर भी चर्चा हुई. सीपीआई नेता डी राजा ने कहा कि अविश्वास प्रस्ताव सिर्फ आंध प्रदेश को विशेष राज्य का दर्ज़ा देने के सवाल पर नहीं दूसरे मुद्दों पर भी लाया जाना चाहिए. अब सबकी निगाहें मंगलवार को होने वाली सर्वदलीय बैठक पर है जो सुबह 11 बजे सरकार ने बुलाई है.

राज्य सभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद ने बैठक के बाद कहा, ‘हम लिंचिंग से लेकर किसानों और दलितों और बेरोज़गारी जैसे कई मुद्दे उठाएंगे, लेकिन अगर सरकार इन पर चर्चा नहीं होने देगी तो फिर संसद में गतिरोध के लिए सरकार ही ज़िम्मेदार होगी.’

बता दें कि पहले ऐसी खबरें थी कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के सुखेंदु शेखर रॉय राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव के लिए विपक्ष के साझा प्रत्याशी हो सकते हैं.