नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी में गुरुवार को खुली जंग होने वाली है. आम आदमी पार्टी की पंजाब इकाई में खुलेआम बगावत होनी तय है. आप नेता और पंजाब में नेता विपक्ष रहे सुखपाल खैरा ने पंजाब के बठिंडा में कन्वेंशन बुलाई है जिसको पार्टी के पंजाब प्रभारी मनीष सिसोदिया ने अवैध बताया है. सिसोदिया ने कहा है कि इसमें जाने वाले नेताओं पर पार्टी कार्रवाई करेगी. हालांकि खैरा और ने साफ़ कर दिया है कि ये कन्वेंशन किसी सूरत में टाला नहीं जाएगा और सारे मुद्दे यहीं साफ़ हो जाएंगे.

साफतौर पर खैरा ने पार्टी के ख़िलाफ़ झंडा बुलंद कर दिया है और ट्वीट करके कहा कि ‘हमारी 2 अगस्त की बैठक को पार्टी विरोधी घोषित करके मनीष सिसोदिया ने तानाशाही रवैये के हमारे आरोप को सही ठहराया है. अगर हम पंजाबी पंजाब की मिट्टी में एक साधारण बैठक तक नहीं कर सकते तो हम पंजाब के हितों की रक्षा करेंगे? बठिंडा की AAP बैठक में मुद्दा हमेशा के लिए शांत हो जाएगा.’

इधर दिल्ली में पार्टी के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पार्टी के विधायकों की बैठक बुलाई है. ये तय माना जा रहा है कि जो विधायक केजरीवाल की गुरुवार सुबह की बैठक में नहीं होंगे वो खैरा की तरफ़ माने जाएंगे. पार्टी सूत्रों के मुताबिक पार्टी के साथ कुल 20 में से 13 विधायक हैं जो फिलहाल दिल्ली में मौजूद हैं जबकि 7 विधायक खैरा गुट की तरफ़ जा सकते हैं. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज से जब गुरुवार की बठिंडा की बैठक के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा ‘पार्टी ने फैसला लिया था कि पहले जो नेता विपक्ष थे, उनको हटाकर दूसरे नेता हरपाल सिंह चीमा को नेता विपक्ष बनाया गया था. इससे नाराज़ होकर सुखपाल सिंह खैरा अपने पक्ष में समर्थन जुटाकर दवाब बनाने की कोशिश में हैं.