मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरडब्ल्यूए के साथ सम्मेलन में रविवार को कहा कि दिल्ली में सीसीटीवी लगाने के लिए किसी की अनुमति की जरूरत नहीं है। उन्होंने उपराज्यपाल द्वारा गठित कमेटी की रिपोर्ट फाड़ते हुए दावा किया कि सोमवार को सबसे पहले वह 1.40 लाख सीसीटीवी कैमरे लगाने की फाइल पास करेंगे। इसके बाद सीसीटीवी लगाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में रविवार को आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि सीसीटीवी पर एलजी की रिपोर्ट गलत है। रिपोर्ट में कहा गया है कि घर, दुकान, कंपनी, मार्केट आदि में सीसीटीवी लगाने के लिए दिल्ली पुलिस उपायुक्त (लाइसेंसिंग) से अनुमति लेनी होगी। उन्होंने कहा कि पुलिस से हथियारों के लाइसेंस देने का काम तो ठीक तरह से हो नहीं रहा है। एलजी साहब! उन्हें सीसीटीवी लगवाने का काम और देना चाहते हैं। केजरीवाल ने आरोप लगाया कि यह भाजपा का पुलिसवालों के जरिए पैसे खाने का तरीका है। लाइसेंस की आड़ में वह मोटा चंदा एकत्रित करना चाहती है। दिल्ली में महिलाएं अपनी सुरक्षा को लेकर परेशान हैं। हर आरडब्ल्यूए व मार्केट एसोसिएशन सुरक्षा को लेकर चिन्तित है। बाजारों से वाहन चोरी हो रहे हैं। महिलाओं से छेड़छाड़ और बच्चियों से दुष्कर्म हो रहा है।