महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को अपना पूरा ध्यान लॉर्ड्स टेस्ट पर लगाना चाहिए और ‘रनों की भूख’ को बरकरार रखना चाहिए। कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ एजबेस्टन टेस्ट में क्रमशः 149 और 51 रन की उम्दा पारियां खेली जबकि टीम इंडिया को 31 रन की शिकस्त झेलनी पड़ी। इसी के साथ टीम इंडिया पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 0-1 से पिछड़ गई। अब सीरीज का दूसरा टेस्ट गुरुवार से ‘क्रिकेट के मक्का’ कहे जाने वाले लॉर्ड्स पर खेला जाएगा।

कोहली की एजबेस्टन टेस्ट में गजब की पारी ने तेंदुलकर का ध्यान आकर्षित किया। क्रिकइंफो के हवाले से ‘क्रिकेट के भगवान’ माने जाने वाले तेंदुलकर ने कहा, ‘मैं कोहली के लिए कहना चाहूंगा कि उन्हें इसी लय को जारी रखना चाहिए। वो शानदार बल्लेबाजी कर रहे हैं तो इसे जारी रखे। इस बारे में चिंता नहीं करें कि आस-पास क्या हो रहा है, अपना ध्यान उस पर लगाएं जो आप हासिल करना चाहते हैं। अपने दिल को रास्ते का मार्गदर्शन करने दें। इस दौरान कई चीजें कही जाएंगी और होंगी, लेकिन जो आप जिंदगी में चाहते हैं, उसके लिए जुनूनी हैं तो नतीजे भी पक्ष में आएंगे।’
virat kohli 100
तेंदुलकर ने ध्यान दिलाया कि पहले टेस्ट के नतीजे की निराशा के बावजूद कोहली को अपनी निजी उपलब्धियों पर गर्व होना चाहिए। इस बात को उन्हें दिमाग में रखना चाहिए कि इंग्लैंड का पिछला दौरा बेहद खराब गुजरा था और उसके बाद उन्हें इतना शानदार प्रदर्शन किया।
सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली
सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली
हालांकि, तेंदुलकर ने यह भी कहा कि कोहली को अपने रनों की भूख को जारी रखना चाहिए। ‘मास्टर ब्लास्टर’ ने कहा, ‘मैं अपने अनुभव से कहूं तो आप कितने भी रन बना लो वो पर्याप्त नहीं लगते हैं। एक बल्लेबाज को हमेशा लगता है कि वह और रन बना सकता है। विराट कोहली के साथ बिलकुल ऐसा ही है। वह कितने भी रन बना लें, वो उससे संतुष्ट नहीं होते। आपके ग्राफ में बदलाव तभी आ जाता है जब आप बनाए रन से संतुष्ट हो जाओ।’
सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर
बकौल तेंदुलकर, ‘खुश रहना अच्छा है। मगर कभी संतुष्ट नहीं होना चाहिए अगर आप बल्लेबाज हैं तो। गेंदबाज सिर्फ 10 विकेट ले सकता है, लेकिन बल्लेबाज जितना चाहे उतने रन बना सकता है, इसलिए कभी संतुष्ट नहीं होना चाहिए, बस खुश रहिए।’